Only4uptet.in
HomeComment Box Log InSing Up
UPTET 72825 CASE STATUS IN SUPREME COURT SHIKSHAMITRA CASE STATUS IN SUPREME COURT
UPTET - डी०एल०एड० प्रशिक्षण 2016 के लिए आदेश जारी
Advertisement
GO TO ROJGARRESULTS.COM
कानूनी विवाद में फंसी नौ हजार से अधिक नौकरियां
इलाहाबाद प्रमुख संवाददाता कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) की संयुक्त हायर सेकेंड्री स्तरीय भर्ती 2015 (सीएचएसएल) की नौ हजार से अधिक नौकरियां कानूनी विवाद में फंस गई हैं। इस कारण पहले चरण की परीक्षा संपन्न होने के डेढ़ साल बाद भी आयोग इस भर्ती का परिणाम घोषित नहीं कर सका।सीएचएसएल 2015 के जरिए केंद्रीय मंत्रलयों और विभागों में 9199 पद भरे जाने हैं। इनमें 2987 पद लोअर डिविजन क्लर्क यानी एलडीसी के हैं जबकि सबसे ज्यादा 5208 पद डाक विभाग में डाक/छटनी सहायक के हैं। डाटा इंट्री आपरेटर के 1004 पदों को भी इसी भर्ती के माध्यम से भरा जाना है। सीएचएसएल 2015 के पहले चरण की परीक्षा नवंबर और दिसंबर 2015 में हुई थी। इसमें 5792 परीक्षार्थी ऐसे थे, जिन्होंने दो बार परीक्षा दी थी इसलिए इनके अभ्यर्थन को निरस्त कर दिया गया।पहले चरण की परीक्षा का परिणाम 29 जुलाई 2016 को घोषित किया गया। दूसरे चरण का परिणाम दिसंबर 2016 और जनवरी 2017 में घोषित किया गया। इसमें सफल अभ्यर्थियों का डाटा इंट्री और स्किल टेस्ट भी करवाया जा चुका है। छह जून 2017 आयोग ने अपनी भर्तियों के परिणाम की स्थिति वेबसाइट पर अपलोड की थी। इसमें स्पष्ट उल्लेख है कि कानूनी विवाद के कारण सीएचएसएल 2015 का परिणाम घोषित नहीं किया जा रहा है। कोर्ट का निर्णय आते ही परिणाम घोषित कर दिया जाएगा।
22290441
GOOGLE SEARCH
uptet | up tet | uptet latest news | uptet news | only4uptet | primary ka master | basic shiksha parishad | basic siksha parishad | basic shiksha | shiksha mitra | shikshamitra latest news | shikshamitra news | uptet 2011 | uptet syllabus | uptet syllabus 2016 | uptetnews | uptet 2016 | uptet 2016 result | uptet result | uptet 2016 admit card | up basic shiksha parishad | shikshamitra
GOOGLE SEARCH से वेबसाइट पर आने के लिए Uptet.Help सेर्च करें.
GO TO UPTET.NEWS

:=:



Telugu Movie
WhatsApp status saver for photo or videos
Download the best Android apps on Uptodown
Download Android App for Free
New Apps  9Apps  UC Browser  more